close

  • To serve Poland – to build Europe – to understand the world

     

  • पोलैंड के बारे में व्‍यापार और निवेश संवर्धन अनुभाग

  • व्‍यापार और निवेश संवर्धन अनुभाग

    भारत और पौलैंड के बीच व्‍यापारिक संबंध शताब्दियों पुराने हैं लेकिन इसकी आधिकारिक शुरूआत भारत की स्‍वतंत्रता के बाद हुई। 1948 के आगामी वर्षों में दोनों देशों का आर्थिक संबंध फलता- फूलता रहा जो मात्र उन वर्षों में थोड़ा थमा था जब दोनों देशों ने नियंत्रित अर्थव्‍यवस्‍था को छोड़कर वैश्विक बाजार में प्रवेश लिया था।

    यह दर्ज करने लायक बात है कि भारतीय अर्थशास्‍त्री श्री महालानोबिस जिन्‍होंने बीसवीं शताब्‍दी के पचासवें दशक में विकास की प्रारंभिक योजनाएं बनाईं थीं उन्‍होंने एंग्‍लोसैक्‍शन आर्थिक विचार- समूह के अपने उन पोलैंडवासी मित्रों के साथ सहयोग में काम किया था जिनके सोचने का तरीका समाजवादी था। यही विचार  उस समय ऑक्‍सफोर्ड और कैम्ब्रिज, मि.कैलेकी और मि. ऑस्‍कर में प्रमुख रूप से प्रचलित था। यही वजह है कि दोनों ही देशों में बीसवीं शताब्दी के दूसरे भाग की आर्थिक योजना लगभग समान है। 

    नई दिल्‍ली अवस्थित व्‍यापार और निवेश अनुभाग का प्रमुख कार्य निम्‍नानुसार है:

     

    भारत गणराज्‍य, भूटान साम्राज्‍य, नेपाल साम्राज्‍य, श्री लंका, बांग्‍लादेश और मालदीव में पोलैंड और पोलैंड की अर्थव्‍यवस्‍था को बढ़ावा देना।

    पोलैंड के निर्यातकों को सहायता और सलाह देना जो दक्षिण एशिया में नए आउटलेट की संभावनाएं तलाश रहे हैं।

    पोलैंड में निवेश के लिए रणनीतिक क्षेत्रों मं भारतीय कंपनियों को बढ़ावा देना।

    पोलैंड की कंपनियों को आवश्‍यक सूचनाएं उपलब्‍ध कराना जो उत्‍पादन आरंभ करने, आर्थिक गतिविधि आरंभ करने, निवेश के लिए उपयुक्‍त जगरह निर्धारित करने या भारत में सेवाएं प्रदान करने पर विचार कर रही हैं।

    पोलैंड और भारत की कंपनियों को आपसी संपर्क बनाने में मदद करना।

    उपयुक्‍त वितरकों, आयातकों और निर्यातकों के लिए उपलब्‍ध डाटा बेस  की तलाश कर देना।

    प्रदर्शनियों और व्‍यापार मेलों के बारे में सूचना उपलब्‍ध कराना।

    भारत और दक्षिण अफ्रीका में महत्‍वपूर्ण व्‍यापार मेलों में भागीदारी करना और ऐसे मेलों में अपना सूचना स्‍टैंड लगाना।

    व्‍यापार मेलों में आने वाले पोलैंड के निर्यातकों के व्‍यापार मिशनों को परामर्श और सहायता उपलब्‍ध कराना।

    पोलैंड के विशेष व्‍यापार मिशन को भारत व अन्‍य दक्षिण एशियाई देशों में आने में मदद करना।

    पोलैंड मं शाखाएं, क्षेत्र और निवेश संभावनाओं को बढ़ावा देने की दृष्टि से सेमिनार आयोजित करना।

    सेमिनारों और ट्रेड मिशनों के संगठन में विभिन्‍न भारतीय वाणिज्‍य परिसंघों के साथ सहयोग करना।

    हमारी सेवाओं का कोई शुल्‍क नहीं है।

     

    Print Print Share: